Posts

Showing posts from May, 2013

Sitaron Se Aage Jahan Aur Bhi Hain

Image
सितारों से आगे जहाँ और भी हैं।(There are more worlds ahead of the stars)- Allama Iqbal

On 15th May 2013 UPA-2 completed its four years,its nine years for Indian Prime Minister Manmohan Singh. In celebrating this event, after dinner party he spoke to journalists and quoted this couplet of Mohammad Iqbal,"Sitaron se aage jahan aur bhi hain" which made me to share complete ghazal here which inspires to not limit yourself and work hard to achieve your goals. For more on this,"Inside Sitaron Se Aage"

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं,अभी इश्क के इम्तिहाँ और भी हैं। There are more worlds ahead of the stars, There are still more tests in love to surpass.
तही ज़िन्दगी से नहीं ये फ़जायें,यहाँ सैकड़ों कारवाँ और भी हैं। This environment is not because of this life, There are hundreds more caravan to rife.
कनाअत न कर आलम-ऐ-रंग-ओ-बू पर,चमन और भी,आशियाँ और भी हैं। Don't be satisfied with the world of color and scent, There are other gardens,other dwellings for content. 
अगर खो गया …

Kiya Mujhe Ishq Ne - Wali Mohammed Wali.

Image
किया मुझे इश्क ने ज़ालिम को।(Love Has Turned That Tyrant To.)- By Wali Mohammad Wali(Wali Dakhini)

किया मुझ इश्क ने ज़ालिम को आब आहिस्ता-आहिस्ता,के आतिश गुल को करती है गुलाब आहिस्ता-आहिस्ता। Love has turned a tyrant like me to plain water slowly-slowly, As sun's heat makes a rose bud to rose flower slowly-slowly.
वफ़ादारी ने दिलबर की बुझाया आतिश-ए-ग़म को,के गर्मी दफ़ा करता है गुलाब आहिस्ता-आहिस्ता। Loyalty of beloved has quenched my pain of grief, As rose dispels the effect of heat slowly-slowly.
अजब कुझ लुत्फ़ रखता है शब-इ-खिलवत में गुल रुसुं,किताब आहिस्ता-आहिस्ता,जवाब आहिस्ता-आहिस्ता। There is a strange pleasure of rosy face in lonely nights, to address to her slowly-slowly,to listen to her slowly-slowly.
मेरे दिल को किया बेख़ुद तेरी अंखियों ने आख़िर को,के ज्यों बेहोश करती है शराब आहिस्ता-आहिस्ता। Your eyes has made my heart to loose its senses,
like the way wine makes us unconscious slowly-slowly.
हुआ तुझ इश्क सो ऐ आतिशीं रूह दिल मेरा पानी,के ज्यों गलाता है आतिश सो गुलाब आहिस्ता-आह…

Ma-Mom-Ammi

Image
माँ-मौम-अम्मी।(Ma-Mom-Ammi){Munawwar Rana's couplet}

Each day we breath is because of our mothers and hence everyday is a Mothers Day. It's good to dedicate a whole day to her name,call her ma,mother,amma,biji,mom,ammi,aaye or anything else her love remain the same for her children. Munawwar Rana is an urdu poet whose most shers(couplet) are dedicated to mother or daughter. Here I am posting some of his shers with english translation by me.

1. जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है,    माँ दुआ करती हुई ख्वाब में आ जाती है।Whenever my boat in inundation comes,     Mother for me praying in dreams comes.
2.ये ऐसा क़र्ज़ है जो मै अता कर ही नहीं सकता,   मै जब तक घर न लौटूं मेरी माँ सजदे में रहती है।It is such a debt which I can never ever pay,    My mother remains in prostration until I get back home.


3.मेरी ख्वाहीश है की फिर से मै फ़रिश्ता हो जाऊं,   माँ से इस तरह लिपट जाऊं कि बच्चा हो जाऊं।
I desire to become an angel again,
   Cling to mother in a way to become a child again.
4.सोचता …

You Need A Break

Image
This post has been published by me as a part of the Blog-a-Ton 39; the thirty-ninth edition of the online marathon of Bloggers; where we decide and we write. To be part of the next edition, visit and start following Blog-a-Ton. The theme for the month is "Break" You Need A Break

"You need a break! You need a break!अपनी परेशानी उठाकर dustbin में फेंक,Don't eat it now like a piece of cake,You need a break! You need a break!"
Raghav heard these words on radio,while coming back to home from studio.He stopped the car and note that number,since tensions are his life's permanent member.
Break from monotonous life,Break from the nagging wife,Break from boss's strife,"बाबूजी ले लो न ये तेज़ knife,"
Requested a young boy in his early teens,Coming closer to the car's windscreen," नशे के लिए ये करते हो?","You don't have father?""उनके कारण ही ये हाल है,my dear big brother", 

"He remained busy with work,ज़िन्दगी उन्हे…

Sunahra Parda

Image
सुनहरा पर्दा।

कोरे-कागज़ सी ज़िन्दगी में कितने रंग भर देता है,
ये सुनहरा पर्दा हर हफ्ते एक नया जनम ले लेता है।

आस कभी,एहसास कभी ,विशवास कभी तुझसे पाया,
सौ सालों में तूने है अलग-अलग रूप अपनाया,
अपने किरदारों से अक्सर दिल की हमारे कह देता है,
कोरे-कागज़ सी ज़िन्दगी में कितने रंग भर देता है।

सपना देखना हिंदुस्तान को तूने ही सिखलाया,
जब तू चुप था तब भी तूने प्यार करना बतलाया,
तू ही हक की ख़ातिर लड़ने को हिम्मत देता है,
कोरे-कागज़ सी ज़िन्दगी में कितने रंग भर देता है।

असीमित आकाश दिखाकर तूने उड़ना समझाया,
सब बेहतर हो जायेगा ये उम्मीद तू ही तो लाया,
तू ही कहता है की इशवर सब ठीक कर देता है,
कोरे-कागज़ सी ज़िन्दगी में कितने रंग भर देता है।

हमारे अधिकारों से तूने ही हमें मिलवाया,
इन्सान हो इन्सान बनो संग तेरे ही गुनगुनाया,
भटके को रस्ता कभी,कभी गिरे को उठा देता है,
कोरे-कागज़ सी ज़िन्दगी में कितने रंग भर देता है।

सच और साहस का मोल बताया,सरहदों का भेद मिटाया,
रिश्तें रब बनाता है तूने हर बार दिखलाया,
फिल्मों से तो हर कोई अपने चिंता,ग़म,भुला देता है,
कोरे-कागज़ सी ज़िन्दगी में कितने रंग भर देता …