Posts

Showing posts from February, 2013

Aag Jalni Chahiye - Dushyant Kumar

Image
आग जलनी चाहिए।(Fire Should be there)- Dushyant Kumar


हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए, इस हिमालय से कोई गंगा निकालनी चाहिए, Pain has become huge as mountain,it should melt, A Ganga from this Himalaya should come,
आज ये दीवार,पर्दों की तरह हिलने लगी, शर्त लेकिन थी की ये बुनियाद हिलनी चाहिए, Today,this wall began to move like curtains, But the condition was that,foundation should move,
हर सड़क पर,हर गली में,हर नगर,हर गाँव में, हाथ लहराते हुए हर लाश चलनी चाहिए, On every road,in every street,every town,in every village, By waving hand,each dead body should walk,
सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं, सारी कोशिश है की ये सूरत बदलनी चाहिए, My aim is not only to create a ruckus, All efforts are so that condition should change,
मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही, हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए। If not in my heart than in your heart, Wherever fire be,but there should be fire,

Phir Yaad Teri Aa Jaati Hai

Image
फिर याद तेरी आ जाती है।

काले-काले बादल से,सूरज की किरण जब आती है, फिर याद तेरी आ जाती है,फिर याद तेरी आ जाती है।
एक जंगल सुनसान हो, न मौजूद कोई इंसान हो, काला-काला अँधियारा हो, सूना-सूना हर किनारा हो, दूर कहीं से फिर सुनाई जब एक धीमी पुकार आ जाती है, फिर याद तेरी आ जाती है,फिर याद तेरी आ जाती है।
एक सागर वीरान हो, भयंकर सा तूफ़ान हो, कोहरे की ऐसी माया हो, दिखता न अपना साया हो, ऊँची-ऊँची वो लहरें जब अचानक थम जाती हैं, फिर याद तेरी आ जाती है,फिर याद तेरी आ जाती है।
कोई भूखा-बीमार हो, मुसीबतों का प्रहार हो, नन्हे-नन्हे हाथों में, भारी-भारी औज़ार हो, उन भूली गुमसुम गलियों में जब हसी खिलखिलाती है, फिर याद तेरी आ जाती है,फिर याद तेरी आ जाती है।


Do Not Stand at My Grave And Weep

Image
Do Not Stand At My Grave And Weep-Mary Elizabeth Frye

Do not stand at my grave and weep, I am not there,I do not sleep, I am a thousand winds that blow, I am the diamond glints on snow, I am the sun on ripened grain, I am the gentle autumn rain, When you awaken in the morning's hush, I am the swift uplifting rush, Of quiet birds in circling flight, I am the soft starlight at night, Do not stand at my grave and weep, I am not there,I did not die. 
Below is my hindi version of that poem:

मरने पे मेरे रोना मत,याद में मेरी थमना मत,
मै यहाँ नहीं,मै सोया नहीं,
मै इन चंचल बहती हवाओं में हूँ,
मै चमकती बर्फ़ के भाव में हूँ,
धूप में लहलहाती धान में हूँ,
पतझड़ में आते वर्षा बाण में हूँ,
शांत सुबाह में तुम्हे जगाने को,
मै हूँ जल्दी से तुम्हे उठाने को,
उड़ते पंछियों की ताल में हूँ,
रात में तारों के जाल में हूँ,
मरने पे मेरे रोना मत,याद में मेरी थमना मत,
मै यहाँ नहीं,मै मरा नहीं।


Ashq Aankhon Mein-Mir

Image
अश्क आँखों में कब नहीं आता।(When tears don't come in eyes)-Mir Taqi Mir

अश्क आँखों में कब नहीं आता, लहू आता है जब नहीं आता। When tears don't come in eyes, When blood comes then it does not.
होश जाता नहीं रहा लेकिन, जब वो आता है तब नहीं आता। Consciousness is not going,but, When she comes then it does not.
दिल से रूख्सत हुई कोई ख्वाहिश, गिरिया कुछ बे-सबब नहीं आता। A desire has leaved from heart, Friend! without reason it comes not.
इश्क का हौसला है शर्त वरना, बात का किस को ढब नहीं आता। Bet is the spirit of love,otherwise, To bring trick in talk,who knows not. 
जी में क्या-क्या है अपने ऐ हमदम, हर सुखन ताबा लब नहीं आता। How many things I have in my mind, Each word to lips arrives not.

Ye Saari Dooriyan

Image
ये सारी दूरियां ....

यूहीं रात दिन जगूं,                                        Yunhi raat din jagoon,
पीछे तेरे आके मै रुकूँ,                                    Peeche tere aake mein rukun,
तुझसे कभी मगर,ये कह भी न सकूं,             Tujhse kabhi magar,ye keh bhi na sakun,
की तू ही दिल का मेरे सुकूँ,                            Ki tu hi dil ka mere sukoon,
तू मेरे जिस्म की है रूह,                                 Tu mere jism ki hai rooh,
ज़िन्दगी तुझी में है,                                        Zindagi tujhi mein hai,
हर ख़ुशी तुझी से है,                                        Har khushi tujhi se hai,
एहसास को मेरे कर महसूस रूबरू,                Aihsaas ko mere kar mehsoos rubaru,
की अब धड़कन की धुन तू ही,                        Ki ab dhadkan ki dhun tu hi,
तू ही सरगम की साज़ है,                                Tu hi sargam ki saaz hai,
जो लाऊं तेरे चेहरे पे हसी,                              Jo laun tere chehre pe hasi,
तो होता मुझे ख़ुद पे नाज़ है,                          To hota mujhe khud p…

Ghalib's- Aah Ko Chahiye

Image
Ghalib's - Sigh Needs(आह को चाहिए)

आह को चाहिए एक उम्र असर होने तक, कौन जीता है तेरी ज़ुल्फ़ के सर होने तक।
Sigh would need a lifetime to take effect,
Who would live till your untangling of hair came to rest.
दाम हर मौज में है हल्का-ए-सद काम-ए-नाहंग, देखें क्या गुज़रे है कतरे पे गौहर होने तक।
Every wave is entrapped by open mouth crocodiles,
Let's see what happen,till it becomes a pearl to a water droplet.
आशिक़ी सब्र तलब और तमन्ना बेताब, दिल का क्या रंग करूँ खूने-जिगर होने तक।
Love needs patience and desires are desperate,
What color I should give,before red to my heart(before red to my heart means before getting death).
हम ने माना के तघाफुल न करोगे लेकिन,
ख़ाक हो जाएंगे हम तुमको ख़बर होने तक।
I consider you won't neglect but,
I will get passed away until this news you will get.

पर्तव-ए-ख़ुर से है शबनम को फ़ना की तालीम,
मैं भी हूँ एक इनायत की नज़र होने तक।
A dew learnt to get perished from sun's rays,
I am there until that look of grace I would get.

य़क नज़र बेश नहीं न फुर्सत-ए-…

Heroine

Image
This post has been published by me as a part of the Blog-a-Ton 36; the thirty-fifth edition of the online marathon of Bloggers; where we decide and we write. To be part of the next edition, visit and start following Blog-a-Ton. The theme for the month is "and then there were none" Heroine
From desires arise dreams, For her she wanted screams,  For Money,power and car, She was ready to go any far.
When still in her teen, Prepared for that big screen, With beauty,talent and luck, She soon earned big buck.
Foe,followers,friends and fan, Light,camera,action and vanity van, Had attention she always demanded, Everything presented as soon she commanded.
Enjoyed the life to full extend, Towards the past she never bend, Her family,those friends,that town, No one she cared to share that crown,
After that seducing,praiseworthy prime, Now gone was her good old time, And then there were none, She was lonely,alone and one.
The fellow Blog-a-Tonics who took part in this Blog-a-Ton and links to their respect…