Posts

Showing posts from 2012

Aaj Phir Mujhko Mara Gaya Hai

Image
आज फिर मुझको मारा गया है।(I Have Been Killed Again Today)
आज फिर मुझको मारा गया है, आज फिर में क़त्ल हो गया हूँ।
I have been killed again today,
I have been murdered again today.

चाहतें तो तेरी मुझको मिली न, पाने में नफरत सफल हो गया हूँ।
I never received your affection,
But succeeded in getting your hatred.
हस्ता था में ज़माने पे अक्सर,की मोहब्बत ये क्या चीज़ होगी, अब ये दुनिया कहकहे है लगाये,कुछ ऐसा पागल हो गया हूँ।
I used to laugh often on world about what is love,
Now world laugh at me,such a crazy I have became.

इबादत की उनकी शिकायत सुबह-शाम करता रहा में, की ख़ुद उनकी परस्तिश में अब मशगूल हो गया हूँ।
I complained about her prayers all days and nights,
Now I keep myself busy to her worship,such a devotee I have became. 
क्या तमन्ना थी मेरी बताओ,एक नज़र प्यार की चाहता था, ये फिर हंगामा क्यूँ इस कदर है,क्यूँ मै कांटा-ए-दिल हो गया हूँ।
What was my desire except to have a look of love,
than why all this fuss,why dirt of eye I have became.
गुनगुनाओ जो हर पल नज़म हूँ,ऐसी तो किस्मत नहीं थी, जो लबों …

Spirit Of Christmas

Image
Spirit Of Christmas
Years after years,festivals go and come, cheerful for some,futile,none for some.
Thousands,millions on these events we spent, burst and poured money but never repent.
When indulged in such celebrations, One thing forgotten in each nation.
That there are corners which remains dark, saddened,lonely,ignored,missing joy and spark.
Assemblages without any pomp and show, Where only sorrows and pain does grow.
Where eating for fun is strictly prohibited, Struggle for meal is what daily needed.
Why not do something on this time of year, along with your friends and all near & dear.
Give love to those who are less blessed, bring smile to those who remain stressed.
Even that's the message of every religion, HE is achieved in service of his creation.
On this season of giving and forgiving, Give Christmas its true meaning.
Clear someone's life's difficulties and mess, is what really the spirit of Christmas.
Note : to have a better understanding of that poem CLI…

Aarzu Hai Wafa Kare Koi-Daag Dehelvi

Image
आरज़ू है वफ़ा करे कोई।(Desire For Some one's Dedication)-Daag Dehelvi आरज़ू है वफ़ा करे कोई, जी न चाहे तो क्या करे कोई। Desire for some one's dedication, If she doesn't want,what one can do?
गर मर्ज़ हो दवा करे कोई, मरने वाले का क्या करे कोई। If there is illness,someone can cure, If one died,what one can do?
कोसते हैं जले हुए क्या-क्या, अपने हक़ में दुआ करे कोई। They Curse, those who are jealous, When for favour,prayer,one can do.
उन से सब अपनी-अपनी कहते है, मेरा मतलब अता करे कोई। Everybody to her says his own condition, My intentions to her,one can do.
तुम सरापा हो सूरत-ए-तस्वीर, तुम से फिर बात क्या करे कोई। You are a picture from head to toe, With you than talk,how one can do?
जिसमें लाखों बरस की हूरें हों, ऐसी जन्नत का क्या करे कोई। Where there are damsels of thousands of years, To such a paradise,what one can do?
D27AX3QX74SX

As Much Achieved In Love

Image
As Much Achieved In Love
As much in love I have achieved, That laughed in self destruction not grieved.
My eyes are aware of her disinterest, Her glimpse I'll get,I still trust.
Openly she passed,she a torturer, From the way where I sigh,I flutter.
How she will hear any of complaints, When in her blessings I'm not an inhabitant.
Which don't get traveler to travel, I am that path,barren,deserted,difficult to ravel.
Which don't shed tears for pain of heart, I am such an angel brave and smart.
Oh 'Cifar',You are so useless a thing not to worry, When broke by someone no need to sorry.

Note: English Version of my poem,"Mohabbat Mein Itna Hi Haasil Kiya Hai".

Mohabbat Mein Itna Hi Haasil Kiya Hai.

मोहब्बत में इतना ही हासिल किया है।(Mohabbat mein itna hi haasil kiya hai.) मोहब्बत में इतना ही हासिल किया है, की खुद को मिटाकर भी हस्ते हैं हम।

Mohabbat mein itna hi haasil kiya hai,
Ki khud ko mitakar bhi haste hain hum.
बेरुखी से हैं उनकी वाकिफ निगाहें, एक नज़र को पर उनकी तरसते हैं हम।

Berukhi se hain unki waqif nigahein,
Ek nazar ko par unki taraste hain hum.
गुज़रते हैं वो ज़ालिम नकाब हटाकर ही, उन रास्तों पर जहाँ आहें भरते हैं हम।

Guzarte hain wo zalim naqab hatakar hi,
Un raaston par jahan aahein bharte hain hum.
फरियादें हमारी सुनेंगे भी कैसे, उनकी रहमत में कहाँ बसते हैं हम।

Fariyaadein hamari sunenge bhi kaise,
Unki rahmat mein kahan baste hain hum.
जिन्हें न मिले हैं मुसाफिर सफ़र को, वो सुनसान बंजर से रस्ते हैं हम।

Jinhe na mile hain musafir safar ko,
Woh sunsaan banjar se raste hain hum.
न आंसू ही झलके मुसीबत-ए-दिल पर, वो सकी रुख़ दिलदार फ़रिश्ते हैं हम।

Na aansu hi jhalke musibat-e-dil par,
Woh saki rukh dildaar farishtein hain hum.
तोड़ के जिसको दुःख भी हुआ न 'सिफर', फ़िज़ूल व…

Dikhai Diye Yun Ki Bekhud Kiya-Mir Taki Mir

Image
दिखाई दिये यूँ की बेख़ुद किया (Your Gaze Made Me Disown My Senses)-Mir Taqi Mir
फकिराना-ए-सदा कर चले, मियां ख़ुश रहो,हम दुआ कर चले,
Like a mendicant,I give everything and went away,
Dear! Be happy praying I went away.
जो तुझ बिन न जीने को कहते थे हम, सो इस अहद को अब वफ़ा कर चले,
I won't live without you,I used to say,
To be faithful to this pledge,I went away.

कोई नाउम्मिदाना करते निगाह, सो तुम हम से मुहं भी छिपा कर चले।
When expected for an unexpected glimpse,
Than hiding face from me,you went away.
बहुत आरज़ू थी गली की तेरी, सो यां से लहू में नहा कर चले।
To be on your street was a strong desire of mine,
So being bathed in blood from here I went away.
दिखाई दिये यूँ की बेख़ुद किया, हमें आप से भी जुदा कर चले।
Your Gaze made me disown my senses,
Parted me from myself,I went away.
जबीन सजदा करते ही करते गए, हक-ए-बंदगी हम अता कर चले।
Repeatedly I prayed with my forehead on ground,
Did rightful duty of a devotee,I went away.

परिश्तिश की यां तैं की ए बुत तुझे, नज़र में सबो की ख़ुदा कर चले। Oh! stat…

Manzil Door Nahin Hai-Ramdhari Singh 'Dinkar'

Image
मंज़िल दूर नहीं है(Destination is not far)-Ramdhari Singh Dinkar
वह प्रदीप जो दिख रहा है झिलमिल दूर नहीं है! थक कर बैठ गए क्या भाई,मंज़िल दूर नहीं है। The flame visible dead from here is not very far, brother why are you sitting tired,destination is not far,
अपने हड्डी की मशाल से,हृदय चीरते तम का, सारी रात चले तुम दुःख झेलते कुलिश निर्मल का, एक खेय है शेष किसी विध पार उसे कर जाओ, वह देखो उस पार चमकता है मंदिर प्रियतम का, From the torch of your bone,tearing the heart of darkness, Clearing thunderbolts you passed the night of distress, Only one key(problem) is left to go across, Look beyond there shines a temple of dearness,
आकर इतना पास फिरे वह सच्चा शूर नहीं है, थक कर बैठ गए क्या भाई,मंज़िल दूर नहीं है। Turning back,coming too close suits not a true soldier of war, brother why are you sitting tired,destination is not far,
दिशा दीप्त हो उठी प्राप्त कर पुण्य प्रकाश तुम्हारा, लिखा जा चुका अनल अक्षरों में इतिहास तुम्हारा, जिस मिट्टी ने लहू पिया वह फूल खिलाएगी ही, अम्बर पर घन बन छाएगा ही उच्छ्वास तुम…

Dil-E-Nadaan(Innocent(naive) Heart)-Mirza Ghalib

Image
दिल-ए-नादां(Innocent Heart)-Mirza Ghalib
दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या है? आखिर इस दर्द की दवा क्या है?
Oh! Innocent heart what has happened to you?
what is the cure of this pain?
हम हैं मुश्ताक और वो बेज़ार, या इलाही यह माजरा क्या है?
I am eager and she unaware,
Oh God! What is happening here?
मै भी मुहँ में ज़बान रखता हूँ, काश पूछो की मुद्दा क्या है?
I too have a tongue in my mouth,
and can tell what is the matter? If asked.
जब की तुझ बिन नहीं कोई मौजूद, फिर ये हंगामा-ए-ख़ुदा क्या है?
If you are the only one present,
than why there is a fuss about God?

ये परी-चेहरा लोग कैसे हैं? गमज़ा-ओ-इशवा-ओ-अदा क्या है?
What these beautiful faces are?
What is all these side glances,airs and coquetry?
शिकन-ए-ज़ुल्फ़-ए-अम्बरी क्यूँ है? निगाह-ए-चश्म-ए-सुरमा सा क्या है? Why these fragrant tresses of hair?
Why these eyes with black liners(surma)?

सब्ज़ा-ओ-गुल कहाँ से आए हैं? अब्र क्या चीज़ है, हवा क्या है?
From where does these plants and flowers come?
What are clouds?What is air?(means who created them)
हमको उनसे वफ़ा…

Ek Nukte Wich Gal Mukdi Ae-Bulle Shah

Image
एक नुख्ते विच गल मुग्दी ऐ।(At this point,all talks end.)-Bulle Shah
पढ़ नुख्ता छोड़ हिस्बा नूं,                   सब हिसाब छोड एक सबक पड़ो, कर दूर कुफ्र दियां बाबां नूं,                  बातें कुफ्र की सब पीछे छोड़ो, छड़ दोज़ख गोर अज़ाबां नूं,                  नरक के श्राप का डर छोड़ो, कर साफ़ दिलां दियां ख़्वाबां नूं            दिल बस अपना तुम साफ़ करो,
गल ऐसे घर विच ठुक्दी ऐ।              ऐसे घर में ही बात बनती है, एक नुख्ते विच गल मुग्दी ऐ।          इस नुख्ते(बिंदु )पर बहस रूकती है। Learn that point,leave all calculations, leave all of unbeliefs' conversations, leave fear of curse of hell, clear only your hearts' dream well,
At such a house,He only went, At this point,all talks end.
ऐवएं माथा ज़मीन घिसैय दा,        बेकार ही ज़मीन पे माथा घिसते हो, पा लाथा मेहराब दिखई दा,            दिखावे को मेहराब बनाते हो, पढ़ कलमा लोक हसाई दा,             लोगों को कलमा पढके सुनाते हो, दिल अंदर समझ न लाई दा,           उसकी पर समझ न दिल में लाते हो,
कदी सच बात भी लुकदी ऐ।         पर सच्चाई कभी नहीं …

Har Saal Diwali Aati Hai(Diwali Comes Every Year)

Image
हर साल दिवाली आती है!(Diwali Comes Every Year)

हर साल दिवाली आती है, हर साल दिवाली जाती है, पर तेरे आने की चाह, दिल में ही रह जाती है। Diwali comes every year, Diwali goes every year, but my wish to have you remains in my heart.
जगमग है गलियां भी सारी, खिल गईं है कलियाँ भी सारी, पर तेरे आने की राह, सूनी-सूनी रह जाती है। Streets are shining with lights, Buds are blooming with pride But the way through which you come always remain vacant.
आतिशबाज़ी का ये मंज़र, चुबता है जैसे खंजर, खुलती भी हैं जो ये बाहें, खुद में ही सिमट फिर जाती हैं। The sight of firecrackers, Pinch me like daggers, If I open my arms for you, Confines again in self.
हर साल दिवाली आती है, हर साल दिवाली जाती है। Diwali comes every year, Diwali goes every year,

Dhire-Dhire(Gradually)

Image
धीरे-धीरे (Gradually)- A tribute to Malala Yusufzai.10 नवंबर को संयुक्त राष्ट्र ने मलाला युसुफजई दिन घोषित किया है।उसके संघर्ष को समर्पित है ये कविता। 10 NOV. is announced as a Malala Yususfzai day by U.N. This poem is dedicated to her struggle.
धीरे-धीरे सपनो को अब बड़ने दो, हौले-हौले उम्मीदों को अब उड़ने दो, सहमे-सहमे रहकर अब तक जिए, अब आगे आकर कुछ कहने दो। Let's dreams grow gradually, let's expectations fly slowly, we have lived a life of fear until now, Let us come forward and say something fearlessly.
ऐसे जागे हैं अब न सोएंगे, यूँ ही घुट-घुट कर अब न रोएंगे, बड़ी-बड़ी बंदूकों का अब डर नहीं, उन्हें हम पर अब चाहे ख़ाली होने दो, धीरे-धीरे .................................... We are awake now,not to sleep, why to hide and slowly weep, we are not afraid of big guns, let them empty on us hurriedly. let's................................
एक-एक कर के हैं अब एक बने, अपने इरादों पर हैं आज ठने, अब थकने का है सवाल नहीं, इन होसलों को अब न खोने दो। धीरे-धीरे .................................... We…

Moko Kahan Dhunde Re Bande(Where Do You Search Me)

Image
मोको कहाँ ढूंढे रे बन्दे?(Where Do You Search Me)- Kabir
मोको कहाँ ढूंढे रे बन्दे                                                                                               
मै तो तेरे पास  में 

Where do you search me?
I am with you


ना तीरथ में ना मूरत में 
ना एकांत निवास में
ना मंदिर में ना मस्जिद में 
ना काबे कैलास में 
मै तो तेरे पास में बन्दे 
मै तो तेरे पास में 

Not in pilgrimage,nor in icons
Neither in solitude resides
Not in temples,nor in mosques
Neither in Kaba nor in Kailas
I am with you o man
I am with you


ना में जप में ना में तप में 
ना में बरत उपास में 
ना में क्रिया करम में रहता 
नहिं जोग संन्यास में 
ना ब्रह्माण्ड आकाश में 
ना में प्रकृति प्रवार गुफा में 
नहिं स्वांसो की स्वांस में 

Not in prayers,nor in meditation
Neither in fasting or prohibition
Not in vedic procedure
Nor in yogic postures
Not even in sky or universe
Neither in womb of nature
Not in the breath of the breaths


खोजि होए तुरत मिल जाऊं 
इक पल की तालास में 
कहत कबीर सुनो भई साधो 
मै तो हूँ विश्वास में . 
If you are a true…

Zeehal-e- miskin Makun Taghaful- by Amir Khusrow

Image
ज़िहाल-ऐ-मिस्कीं मकुन तगाफुल - अमीर खुसरो SJD4REMPJMVM (Do not overlook my misery- Amir Khusrow) The poem is unique in a way that it is written in Persian and Brij Bhasha. In the first verse,the first line is in Persian,the second in Brij Bhasha,the third in Persian again and the fourth in Brij Bhasha. In the remaining verses,the first two lines are in Persian,the last two in Brij Bhasha. The poem showcases Amir Khusrow's mastery over both languages. In this poem,he potrays the longing of a lover for her beloved,her restlessness and how she feels without him.

ज़िहाल-ऐ-मिस्कीं मकुन तगाफुल
दुराये नैना बनाए बतियाँ  कि ताब-ए-हिजरां नदाराम-ऐ-जान  न लेहो काहे लगाये छातियाँ। You don't understand my misery, by blandishing your eyes and weaving tales. my sweetheart,I don't have patience now why don't you take me to your bosom.
शबां-ए-हिजरां दरज़-चूं-ज़ुल्फ़  वा रोज़-ए-वस्लत चो-उम्र-कोताह, सखि पिया को जो मै न देखूं  तो कैसे काटूं अंधेरी रतियां। The night of separation are long like tre…

Bachcha Ban Jaaun!(Became a child Again!)

Image
यह कविता सुहाना मौसम देख कर दुबारा बचपन में लौटने की कामना की है। This poem is about revisiting childhood after watching pleasant weather. बच्चा बन जाऊं!(became a child again!)चलती है शीतल पवन, आज हुआ फिर चंचल मन। When cold breeze blew away, my heart goes fickle today,
मै फिर से एक बच्चा बन जाऊं, ज़िद करूँ,मचलूं,घर से बाहर आऊं। To become a child again, be stubborn,get excited and come in rain,
ठंडी-ठंडी जल की बूँदें, ना मेरी आज आँखें मूंदें, Today these small water drops, not let my eyes close, I hopes,
लकड़ी के छोटे ढेरों को अग्नि से सुलगाऊँ, ह्रदय अगन में न तपूँ,सुघंदित दीप जलाऊं, And burn the small wooden heaps with fire, don't let my heart burn,instead candles with fragrant attire,
झोंका हो जिस ओर, हो लूं मै उस छोर, Towards where the wind bend, I too reach that end,
 मित्रों को सब एकत्रित कर लाऊं, बैठूं,नाचूँ,हसूँ आज खेलूँ गुनगुनाऊँ, Today,gather all old friends of mine, play,sit,laugh,dance and together dine, 
महके चेह्के धरा-उपवन, खिल उठें सारे कण-कण, Earth and gardens will bloom, all c…

Patta Patta Buta Buta(All Leaves And Plants) By Mir

Image
पत्ता पत्ता बूटा बूटा-मीर तकी मीर पत्ता-पत्ता बूटा-बूटा हाल हमारा जाने है, जाने न जाने गुल ही न जाने,बाग़ तो सारा जाने है।
Each leaf and each plant knows my condition(plight)
only rose alone does not know what all the garden knows.
लगने न दे बस हो तो उसके गौहर-ए-गोश के बाले तक, उस को फ़लक चश्म-ए-मै-ओ-ख़ोर की तितली का तारा जाने है।
What known to even her earrings,her ears are unaware off
even this is known to the pupil of her moon like eyes.(but not to her)
आगे उस मुतक़ब्बर के हम ख़ुदा-ख़ुदा किया करते हैं, कब मौजूद ख़ुदा को वो मग़रूर ख़ुद-आरा जाने है।
I do enchant to let god be god in front of that arrogant girl,
but she is so proud in self praise that she ignored HIM.
आशिक़ सा तो सादा कोई और न होगा दुनिया में, जी के ज़िआँ को इश्क़ में उस के अपना वारा जाने है।
No one is as simple as a lover in this world,
who sacrifices his life to be in her love forever.
चारागरी बीमारी-ए-दिल की रस्म-ए-शहर-ए-हुस्न नहीं, वर्ना दिलबर-ए-नादाँ भी इस दर्द का चारा जाने है। Ailing heart's treatment is alien to that…

Hazaaron Khwahishen Aisi-By Ghalib

Image
हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी - ग़ालिब हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी के हर ख्वाहिश पे दम निकले, बहुत निकले मेरे अरमां, मगर फिर भी कम निकले, Thousands of desire, each worth dying for.. many of them i have realized,yet i yearn for more.
डरे क्यूँ मेरा कातिल?क्या रहेगा उसकी गर्दन पर? वो खूं जो,चश्में तर से उम्र भर यूँ दम-बा-दम निकले, Why should my killer(lover) be afraid? No one will hold her responsible for the blood which continuously flow through my eyes all my life.
निकलना खुल्द से आदम का सुनते आये हैं लेकिन, बहुत बे आबरू हो कर तेरे कूंचे से हम निकले, We have heard about the dismissal of Adam from Heaven, with a more humiliation, I am leaving the street in which you live..
भरम खुल जाए ज़ालिम!तेरी कामत की दराज़ी का, अगर इस तराह पर पेचो ख़म का पेचो ख़म निकले, Oh tyrant,your true personality will be known to all, if the curls of my hair slip through my turban!
मगर लिखवाए कोई उसको ख़त, तो हमसे लिखवाए, हुई सुबहा,और घर से कां पर रख कर कलम निकले, But if someone wants to write her a letter,they can ask me, every morning i le…

Tum To Nahin Thi?

Image
तुम तो नहीं थीं? मेरी शायरी कहीं तुम तो नहीं थी? के अब तेरे जाने के बाद, लिख नहीं पाते हैं हाथ, काफिले मिलते ही नहीं, लफ्ज़ आएं नज़र न सही, मेरी शायरी कहीं तुम तो नहीं थी?
मेरी आशिकी कहीं तुम तो नहीं थी? के अब तेरे बिना,न कटे दिन और रात, भाए मुझे न अब किसी और का साथ, अब लगती नहीं,न भूख न प्यास, राह में आँखें बिछें,लेके तेरे आने की आस, मेरी आशिकी कहीं तुम तो नहीं थी?
मेरी दिल्लगी कहीं तुम तो नहीं थी? चुपचाप सा रहूँ अब तेरे बगैर, दोस्त रिश्तेदार लगने लगे हैं गैर, कहीं खो सी गई है अब मेरी हसी, मेरी धडकनों में तू ही तू बसी, मेरी दिल्लगी कहीं तुम तो नहीं थी?
मेरी किस्मत कहीं तुम तो नहीं थीं? के अब टूटे-टूटे हैं सारे ख्वाब, आसमां से भी मिलता नहीं जवाब, हर ख़ुशी को तरसता हूँ, तनहाइयों में सिसकता'हूँ, मेरी किस्मत कहीं तुम तो नहीं थीं?
मेरी ज़िन्दगी कहीं तुम तो नहीं थीं, के रुक-रुक के आती है अब सांस, मिटती जो नहीं तुझसे मिलने की आस, अब इसके सिवा नहीं कोई आरज़ू मेरी, तेरी बाँहों में ही निकले जान ये मेरी, मेरी ज़िन्दगी कहीं तुम तो नहीं थीं,

Ye Hai Mera Hindustan Mere Sapno Ka Jahaan

Image
ये है मेरा हिंदुस्तान मेरे सपनो का जहान।-ज़ुबैर रिज़वी  ये है मेरा हिंदुस्तान मेरे सपनो का जहान इससे प्यार मुझको।
हस्ता-गाता जीवन इसका धूम मचाते मौसम, हस्ता-गाता जीवन इसका धूम मचाते मौसम, गंगा-जमना की लहरों में सात सुरों के सरगम, ताज के नूराधर से सुंदर तस्वीरों के मंज़र, ये है मेरा हिंदुस्तान मेरे सपनो का जहान इससे प्यार मुझको।
दिन अलबेले,रातें इसकी मस्ती की सौदागर, दिन अलबेले,रातें इसकी मस्ती की सौदागर धरती जैसे टूट रही हो दूध की कच्ची गागर, ऊँचे-ऊँचे पर्वत इसके,नीले-नीले सागर, ये है मेरा हिंदुस्तान मेरे सपनो का जहान इससे प्यार मुझको।
बादल झूमे,बरखा बरसे,पवन झकोले खाए, बादल झूमे,बरखा बरसे,पवन झकोले खाए, धरती के फैले आगन में यूं खेती लहराए .. जैसे बच्चा माँ की गोद में रह-रह के मुस्काए .... ये है मेरा हिंदुस्तान मेरे सपनो का जहान इससे प्यार मुझको।
राधा,सीता,चंदर गाये,गाये इंदुबाल, राधा,सीता,चंदर गाये,गाये इंदुबाल, नैनो में काजल के डोरे,सुर्ख गुलाबी गाल, जुल्फों की वो छायां जैसे शिमला-नैनीताल, ये है मेरा हिंदुस्तान मेरे सपनो का जहान इससे प्यार मुझको।
राजा-रानी,गुड्डा-गुड्डी और परियों क…

Tujhe Na Sochun To Kya Karoon.......

तुझे न सोचूं तो क्या करूं ...... तुझे न सोचूं तो क्या करूं, वक़्त के इस खालीपन को कैसे भरूं।
सरगम अगर बनाऊं,लफ़्ज़ों से उसे सजाऊं, गीत जो बनता है उसमे तुझे ही गुनगुनाऊँ, फिर उसे न गाऊँ,तो क्या करूं .......
तुझे न सोचूं तो क्या करूं, वक़्त के इस खालीपन को कैसे भरूं।
कोरे से कागज़ पे कुछ मिटाऊं,बनाऊं, रंगों में उसे भरूं ,भिगाऊं, तेरा चेहरा ह़ी बन जाता है। रंग फिर न भरूं,तो क्या करूं .......
तुझे न सोचूं तो क्या करूं, वक़्त के इस खालीपन को कैसे भरूं।
फूलों को धागों में पिरा,एक माला का रूप दिया, वो तेरी तरह महके तो खुद को कैसे समझाऊं,  उस खुशबू से खुद को कैसे अलग करूं .....
तुझे न सोचूं तो क्या करूं, वक़्त के इस खालीपन को कैसे भरूं।
जान अपनी छोड़ कर,याद तेरी छुट जाएगी, गले में फन्दा डाल लिया,सोचा मर जाऊं, पर साथ मेरे तू भी तो है,जान तेरी कैसे लेलूं .......
तुझे न सोचूं तो क्या करूं, वक़्त के इस खालीपन को कैसे भरूं।

Aik Aleef - Bulle Shah( with hindi translation)

Image
एक अलिफ़ - बुल्ले शाह इलमन बस करियो यार  एको अलिफ़ तेरे दरकार  चाहे जितना ज्ञान लो मेरे यार, एक शब्द करे तेरा बेड़ा पार,
इल्म न आवे विच शुमार  जांदी उम्र, नहीं ऐतबार  इलमन बस करियो यार  एको अलिफ़ तेरे दरकार  ज्ञान न मिले चाहे पड़ो बार-बार, कब तक जियोगे नहीं ऐतबार,
चाहे जितना ज्ञान लो मेरे यार, एक शब्द करे तेरा बेड़ा पार।
इलमन बस करियो यार  चाहे जितना ज्ञान लो मेरे यार
पढ़-पढ़,लिख-लिख लांदे ढेर, ढेर किताबें,चार छो फेर करदे छनन विच उन्हेर  पेछो:"रह?"ते खबर न सतर  पढ़-पढ़ किताबें ढेर लगाया  कुरान,हदीस सब पढ़ आया  रोशनी में भी पर अँधेरा पाया फिर भी उसको समझ न पाया 
इलमन बस करियो यार  चाहे जितना ज्ञान लो मेरे यार
पढ़-पढ़ शेख़ मशेख खावें उलटे मसले घरों बता दें  बे इल्मान नू लुट लुट खावें  झूटे-सच्चे करें इकरार  पढ़ कर मौलाना,शागिर्द बन जाओ  सबको गलत तरीके बताओ  न समझो से तुम पैसा खाओ  करलो चाहे झूठे-सच्चे इकरार
इलमन बस करियो यार  चाहे जितना ज्ञान लो मेरे यार
पढ़ पढ़ नफल नमाज़ गुज़ारे  अछीयां बाघा चंगा मारी  मेंबर ते चढ़ वाज़ पुकारें  कीत्ता तीनू इल्म खवार  नमाजें पड़कर तुमने दिन गुज़ारे  छत पर चढ़कर…

HEARTFELT: तेरी ख़ुदाई

HAALAT-E-CIFAR

हालत-ऐ-'सिफर' बिखरे-बिखरे से ख्यालात हैं,
        उलझे-उलझे से सवालात हैं,
इस कदर सोच में डूबें हैं 'सिफर'
       सोच क्या थी न मालूमात है।

उलटी-पुलटी सी मंज़िलात हैं,
       हैं राहे जिनसे न ताल्लुकात है,
ऐसे रास्तों पर निकल पड़े हैं 'सिफर',
      जिसके ख़त्म होने के न हसरात हैं।

बहके-बहके से असरात हैं,
              टूटे-टूटे से इरादात हैं,
दूर इतने न चले जाना 'सिफर',
      के आने के फिर बने न हालात है।

Mehve Khayal(lost in thoughts)

Image
महवे ख्याल।(ख्यालों में खोये हुए)
कैसी मै नाबकार हूँ,                                                                                गरचे जवां मै हज़ार हूँ,                                                                         लज्ज़ते कश अज़ार हूँ,                                                                                      महवे-ख्याल यार हूँ,                                 मुझको सज़ा यूँ मिली इश्क में बेकरार हूँ।
हूँ मै असीरे रंजोगम,                                                                             हिज्र के दिन ये पुर अलम, कुफ्रे शबाब पुर सितम,                                नालाये दिल फ़गार हूँ,                                मुझको सज़ा यूँ मिली इश्क में बेकरार हूँ।
हो गई ज़िन्दगी से सैर, आजा तू मौत गुलबरग न देर, मुल्के अदम की हो गई सैर,
                              आज़में कीये यार हूँ ,                               मुझको सज़ा यूँ मिली इश्क में बेकरार हूँ।
जान मै जिसको देती हूँ, कलमा में जिसका पड़ती हूँ, दिल से मै जिस पर मरती हूँ,                             …

Phate Panne

फटे पन्ने। उस दिन कुछ फटे पन्ने मिले।
उस दिन कुछ फटे पन्ने मिले, तो फिर लगा तुम मिल गए।
उनमें तुमने लिखी कुछ बातें थीं, उनमें तुम्हारी यादें थीं, थे जज़्बात सारे हिल गए, तो फिर लगा तुम मिल गए।
खुशबू से घर महक गया, पगला ये मन था चहक गया, जब पन्नो को बैठी जोड़ने, सब दर्द लगे थे छोड़ने, चंद फूल दिल में खिल गए, तो फिर लगा तुम मिल गए। उस दिन ..........................
हर लव्ज़ था कुछ बोलता, वो प्यार फिर से घोलता, पल भर को दिल ने मान लिया, जैसे तुने फिर थाम लिया, सुर थे धडकनों में घुल गए, तो फिर लगा तुम मिल गए। उस दिन कुछ ...................
उसमे लिखा वो फरमान था, जब मुझसे हुआ तू अनजान था, कितने थे मुझे शिकवे-गिले, पर तुम मुझे फिर न मिले, मुझसे अलग तुम सपने बुन गए, तो फिर क्यूँ  लगा तुम मिल गए।
उस दिन कुछ फटे पन्ने मिले, तो फिर लगा तुम मिल गए।


Chilman Padi Ho Lakh Sarakti Zaroor Hai.

चिलमन पड़ी हो लाख सरकती ज़रूर है। चिलमन पड़ी हो लाख सरकती ज़रूर है,
आशिक पे एक निगाह तो पड़ती ज़रूर है।

तुम लाख एहतियात से रखो शबाब को,
ये वो शराब है जो छलकती ज़रूर है।

सहमी हुई हैं आज नशेमन की बत्तियाँ,
बिजली कहीं करीब चमकती ज़रूर है।

ज़ेरे नकाब रहके भी छुपता नहीं शबाब,
खिलति है जब कली तो महकती ज़रूर है।

मंजिल की जुस्तजू में जवानी की ख़ैर हो,
दीवानी रास्तों पे भटकती ज़रूर है।

सब जानते हैं इसमें कोई फायदा नहीं,
दुनिया हसीन श़क्ल को तकती ज़रूर है।

कंगन हों चूड़ियाँ हों मगर आधी रात को,
कोई न कोई चीज़ खनकती ज़रूर है।

'कैसर' शराब छोड़े ज़माना गुज़र गया,
फिर आज मेरी तौबा बहकती ज़रूर है।

नोट:ये ग़ज़ल भी मुझे उसी पुरानी डायरी में मिली थी जिसमें "अनवर " द्वारा लिखी ग़ज़ल मिली थी।
इसकी आखरी दो लाइन में किसी" कैसर" का ज़िक्र आता है जिनके बारे में भी में कोई जानकारी नहीं जुटा सका,किसी को कुछ मालूमात हो तो ज़रूर जानकारी दें।

Kaisi Jagah Hai

कैसी जगह है। बड़ी विचित्र जगह है यह, कुछ समझ आता नहीं, क्या करूँ क्या न करूँ , कुछ भी तो है भाता नहीं,
कोई कहीं से आ गया, कोई कहाँ गया यहाँ, उलझे हुए हैं सभी, सुलझा कोई पाता नहीं,
इस तरह खड़े हैं सब, हशर का जैसे मैदान हो, फैसला करवा के भी, बची न उनकी जान हो,
है तड़प इतनी सी बस, मै भी हूँ शामिल भीड़ में, कर गुज़रने थे जिसे, पार नदिया और पहाड़ थे,
रास्ता दिखलादूं अगर, कोई भटका जो मिले मुझे, मंज़िल मिलेगी मुझे भी, फिर ये रहे चीर के।

Woh

वो  किसी ने कहा ना किसी ने सुना है, एक आवाज़ मगर आती तो है।
होले से छुकर,वो गालों को मेरे, यहीं-कहीं से जाती तो है।
अंधेरों को मेरे मिटाने वो शब में, चिरागों को आकर जलाती तो है।
दिखती नही है न आते न जाते, एहसास मगर अपना कराती तो है।
बुलाऊ कभी तो वो आती नहीं है, तनहाइयाँ मगर, मिटाती तो है।
चिलमन में चेहरा छुपाए है बैठी, ख्वाबों में मगर सताती तो है।
उसे कभी देखा तो नहीं है, एक सूरत दिल में नज़र मगर आती तो है।




Hale Gham Apna Bhala Kisko Sunaya Jaaye.

हाले ग़म अपना भला किसको सुनाया जाए। हाले ग़म अपना भला किसको सुनाया जाए,  कौन दुश्मन है यहाँ किसको रुलाया जाए , आये मय्यत पे तो इस तरह से फरमाने लगे, रूठने वाले को किस तरह मनाया जाए।
हर्मोदहर का यूँ झगड़ा मिटाया जाए , बीच में दोनों के मैखाना बनाया जाए।
क्यूंकि इसी हिंदुस्तान में एक धनवान रहता था, ना हिन्दू था,ना मुस्लिम था,फ़क़त इंसान रहता था, ये दिल में सोचा उसने ऐसा कोई काम कर जाएँ, जहाँ करने वाले करें तारीफ ऐसा नाम कर जाएँ।
करें वो काम के हिन्दू-मुसल्मा एक हो जाएं, जो हैं भटके हुए रस्ते वो सब नेक हो जाएं, जहाँ हिन्दू करे पूजा,जहाँ मुस्लिम करे सजदा, दिखाएँ एक जगह पे रहीमो-राम का जलवा।
ये दिल में सोच कर बनवाया आलिशान एक मंदिर, हुई तामीर तो एलान उसने कर दिया घर-घर, के हिन्दू भी यहाँ आएं,मुसल्मा भी यहाँ आएं, कोई सजदा करे आकर कोई माला चड़ा जाए,
मगर कुछ रोज़ बाद आया तो देखा उस जगह मंज़र, के मंदिर के सहन में चंद हिन्दू बैठे थे मिलकर, बुला कर एक पुजारी से ये मंज़र देख कर पूछा, मुसल्मा क्यूँ नहीं आते हैं करने इस जगह सजदा?
पुजारी ने कहा मुस्लिम यहाँ किस तरह आएँगे, वो सब मस्जिद में जाकर ही अप…

Tere Saaye Ko To Chahne De

तेरे साय को तो चाहने दे। तेरे साय को तो चाहने दे, उसको तो मुझसे दूर न कर,मुझे पाने दे, तेरे साय को तो चाहने दे।
पानी सा शीतल है वो तो, बादल सा कोमल है वो तो, इस दुनिया के बहकावे में उसको ना आने दे, तेरे साय को तो चाहने दे।
कुछ देर वही तो रूककर,वक़्त मुझे दे देता है, मुझको वही तो छूकर एहसास तेरा दे देता है, डर कर संगदिल दुनिया से क्यूँ कहीं और उसे जाने दे, तेरे साय को तो चाहने दे।
मेरी तरह वो भी शर्मीला सा लगता है, देख कर मुझको वो भी इधर-उधर छुप जाता है, ये ही अदा तो कातिल है,यूं ही उसे शर्माने दे, तेरे साय को तो चाहने दे।उसको तो मुझसे दूर न कर,मुझे पाने दे।
ना हस्ता है ना रोता है,चुप चाप है मेरी ही तरह, दर्द अब वो सहता है,सहता था मै जिस तरह, आँखें कभी-कभी नम मगर करलेता है, कर लेने दे। तेरे साय को तो चाहने दे।

Inquilaab

Image
इंक़लाब  दिल तोड़ के सब छोड़ के,                              बैठ न खुद को रोक के, अब होने को पूरे ख़्वाब हैं, तेरे सामने इंक़लाब है।
ताकत को अपनी भांप ले, कमजोरियां सब ढांप ले, मिलने को सब जवाब हैं, तेरे सामने इंक़लाब है।
आज रुक अगर तू जाएगा, नज़रें खुद से कैसे मिलाएगा, जलने को अब तो आब है, तेरे सामने इंक़लाब है।
आज हैं अकेले हम नहीं, मिट जाएं तो भी ग़म नहीं, बड़ने में ही अब सवाब है, तेरे सामने इंक़लाब है।
सूचना: ये तस्वीर इंटरनेट से ली गई है।


Mein Wahin Pe Rah Gaya

मै वहीँ पे रह गया। ज़िन्दगी बढती गई,मै वहीँ  पे रह गया, मै चल भी न सका और समय बह गया।
न मेरी राहें कोई,न मंजिल है कोई, धुल फिर भी उड़ती गई,जिसमें मै खो गया। ज़िन्दगी बढती गई,मै वहीँ  पे रह गया।
धुप से छाओं से क्या मेरा वास्ता, में बस सुनाता रहा भूली सी दास्तां, किस्से बनते रहे,मै मगर सो गया, मै चल भी न सका और समय बह गया।
दर्द से जुड़ गया जो एक रिश्ता नया, छोड़ वो भी गया जब हद से ज़्यादा बड़ गया, सरगमों में मै ही दर्द को चुनता गया, मै चल भी न सका और समय बह गया। ज़िन्दगी बढती गई,मै वहीँ  पे रह गया।
"आगे बढता रहूँ",जो करूँ में ये दुआ, जो हुआ ना भूल तू है यही मेरा फलसफा, खुद से लड़ता हुआ मै ही मिटता गया, मै चल भी न सका और समय बह गया। ज़िन्दगी बढती गई,मै वहीँ  पे रह गया।
तन्हाई कहे अब तू मुझे छोड़ जा,  तोड़ दे जो बरसों का है नाता ही ये बन गया,  रो पडूँगी मै अगर मुझसा ही तू हो गया, मै चल भी न सका और समय बह गया। ज़िन्दगी बढती गई,मै वहीँ  पे रह गया।

Tere Diwane

तेरे दीवाने  आज हर गली में, हर मोड़ पर मैख़ाने हैं, अब इस शहर में बढ रहे तेरे दीवाने हैं।
थोड़ा परदे का एहतराम करो, इस तरह क़त्ल न सरे आम करो, बे वजह बन रहे जो ये अफसाने हैं, अब इस शहर में बढ रहे तेरे दीवाने हैं।
छज्जे पर जुल्फें जो न सुल्झाओगे, हजारों को किसी काम पर लगाओगे, इतने जो टूट रहे अब घराने हैं, अब इस शहर में बढ रहे तेरे दीवाने हैं।
ये सुर्ख होंट जब नज़र आ जाते हैं, भंवरे भी बहकने लग जाते हैं, फूलों की जो लगने लगी दुकाने हैं, अब इस शहर में बढ रहे तेरे दीवाने हैं।
जो आँखों से तेरी हैं मदहोश हुए, उन्हें साकी जो न रोके तो हैं बेहोश हुए, ख़ाली नहीं हो रहे अब जो पैमाने हैं,  इस शहर में बढ रहे तेरे दीवाने हैं।
अब अपने दीवानों पे करदो ये रहम, के किसी एक को बनालो तुम सनम, तड़प-तड़प के जो रोज़ मर रहें हैं, एक बार ही बस सहलेंगे सितम।
छोड़ दो फुर्सत में जो तुम्हे अब जाल फेलाने हैं, अब इस शहर में बढ रहे तेरे दीवाने हैं।


Swarg or Nark

स्वर्ग और नरक  वो कहते हैं वफ़ा की है मैंने इस ज़माने में, कमी आने न दी माँ -बाप के पैरों को दबाने में,
सुबह और शाम को भगवान् को में याद करता था, कहीं,कभी भी किसी से भी मै न लड़ता था।
सच बोला सदा ईमान पर रहा अटल, जो भटका भी कभी तो मै गया संभल,
बच्चों को है पाला,बनाया है बड़ा काबिल, मेरे अच्छे कर्मों में उनको भी किया शामिल,
दान ,धर्मों के कामों से बड़ा पुन्य कमाया है, बड़े सुख चैन से ही आखरी वक़्त आया है,
सोचता हूँ मिलेगा क्या? स्वर्ग या नरक! दोनों में भला करूँगा कैसे मै फर्क,
कई पंडित बुलवाए,बड़े कई शास्त्र मंगवाए, मगर उत्तर बड़ा मुश्किल खुदबखुद ही समझ पाए।
स्वर्ग और नरक है अपने ही कर्मों ने बनाया, सुख चैन से जीवन जिया तो क्या जन्नत को पाया,
तेरी एक बात से ख़ुशी गर किसी को मिल जाए, कोई हरकत भी तेरी दिल किसी का न दुखाए, तेरे पैसे से भला दो-चार भी उठालें, तेरे कारन कभी गिरते कोई खुद को संभालें,
तो ये मान लेना मिट गए सारे फर्क, जो किसी का नरक तेरे से बनजाएगा स्वर्ग,
अब अपनी जन्नत से किसी की दुनिया सजाऊंगा, जन्नतें अपनी जैसी सारी दुनिया में बसाऊंगा,
मिटा दूंगा चिंताएं पैदा जो करती हैं ये…

Woh Subah

वो सुबाह। अपने आँचल की हवा से मुझे सहलाती थी, सुर्ख लाली मेरे गालों बे वो बिखराती थी,
उसके आने से मेरी नींद ही उड़ जाती थी, वो बड़े प्यार से आकार मुझे जगाती थी।
ये बुरी नज़र थी किसी की या मेरा मुकद्दर, की हर ख़ुशी से बिछड़ना ही है मुयस्सर,
उस सिया के आँचल ने मुझे ढांप लिया, उसके आगोश में खोया ये मैंने पाप किया,
उसकी बाँहों में फिर मै जकड़ता ही गया, उस बेचारी से मै और बिछड़ता ही गया,
ये इस कदर नशे में मुझे कर जाती थी, के उसके आँचल की हवा भी जगा न पाती थी,
वो हार को मेरी देती थी हरा, इसने बस हार से मेरा दामन है भरा,
वो सबको लाती थी मेरे पास, इसने मुझको बनाया है अपना ख़ास,
ये जिद है,तू मेरी चाहत थी, मेरे बचपन की तू ही तो मोहब्बत थी,
मै तेरे साथ पड़ा और खेला हूँ, आज तेरे बिना अकेला हूँ।
तुझसे एक बार मिल तो जाऊं कभी, जितने शिकवे हैं मिटा दूंगा सभी।
मै मजबूर हूँ,लाचार हूँ,मुझको ले बचा, बिन तेरे जीना है मेरी भी सज़ा,
ये मिटा कर मुझे दूर से मुस्काएगी, तू बचा ले मुझे मेरी जान निकल जाएगी।

Bachpan Kahin Pe Kho Gaya

बचपन कहीं पे खो गया। बचपन कहीं पे खो गया, मासूमियत का हिस्सा उसमें से अलग हो गया।
ताज़ी हवा को देख कर किलकारियां आती नहीं, नन्हे से क़दमों की आहट घर से कहीं जाती नहीं, टी . वी . में खोकर कुछ याद नहीं रहता, अब विडियो गेम ही बस संग है रहता, कीपैड पर छोटे से हाथों का वोह स्पर्श बह गया, बचपन कहीं पे खो गया, मासूमियत का हिस्सा उसमें से अलग हो गया।
दोस्तों के साथ रोटी आधी बाटना, गलतियों पर आपस में लड़ना-डाँटना, बाटना बस फेसबुक की शेरिंग तक रह गया, मासूमियत का हिस्सा उसमें से अलग हो गया। बचपन कहीं पे खो गया।
बारिशों में बेधड़क मस्ती में सबका झूमना, एक दूसरे के पीछे गलियों में दिनभर घूमना, गेंद,बल्ले,खो-खो,कबड्डी,का मंज़र आँखों से ओझल हो गया, मासूमियत का हिस्सा उसमें से अलग हो गया। बचपन कहीं पे खो गया।

Dekh Kar Guzar Gaye

देख कर गुज़र गए ( Dekh Kar Guzar Gaye) (23/11/11) वो मेरी तरफ देख कर गुज़र गए, ना कुछ कहा ना बात की, ना रुक के मुलाकात की, डाल कर मुझपर बस एक नज़र गुज़र गए, वो मेरी तरफ देख कर, देख कर गुज़र गए।

Woh meri taraf dekh kar guzar gaye,
Na kuch kaha na baat ki,
Na ruk ke mulaqat ki,
Daal kar mujhpar bas ek nazar chale gaye,
Woh mei taraf dekh kar, dekh kar guzar gaye.
सोचा की आवाज़ दूं, किसी तरह तो रोक दूं, लबों पर,पर लव्ज़ न आ सके, और वोह मेरे हाल से युहीं बे खबर चले गए, वो मेरी तरफ देख कर, देख कर गुज़र गए।

Socha ki awaaz doon,
Kisi tarah to rok doon,
Labon par,par lawz na aa sake,
Aur woh mere haal se yuhin be-khabar chale gaye,
Woh meri taraf dekh kar,dekh kar guzar gaye. 
रुक-रुक के जा रहे थे वो, किसी चीज़ का जैसे इंतज़ार हो, ज़ुल्फ़ की चादर से मुड़ कर भी देखा किये, कोई इशारा मगर बिना किए निकल गए, वो मेरी तरफ देख कर, देख कर गुज़र गए।

Ruk-Ruk ke jaa rahe the woh,
Kisi cheez ka jaise intezaar ho,
Zulf ki chadar se mud kar bhi dekha kiye,
Koi ishara magar bina kiye nikal gaye,
Woh meri tar…

Aansu

आंसू   ये आंसू नहीं हैं मोती हैं। बरसे हैं जब  तू रोती है .
दिल में मेरे जो प्यार है, ये गर गिरे तो वो बेकार है,
आँखें हों नम बस प्यार में,  कई दिन में होते दीदार में, न गर हो सके उस इज़हार में, जानबूझ कर होने वाली तकरार में,
चेहरा सदा ये चमकता रहे, पर न इन मोतियों की बोछार से, ये दामन में मेरे डलते रहें, तेरा आँचल महके बस बहार से,
इन की उमर हो छोटी सी, यूँ बुरी लगे है तू रूठी सी, आंसू को यूँ सम्मान न दे, ग़मों पे अपने तू ध्यान न दे,
ख़ुशी से बस तेरी आँखें भरें, दुःख तेरे हमने हैं हरे, ज्यादा सोच में क्यूँ खुदको डुबोती है, ये आंसू नहीं हैं मोती है,

Tu Mile Ya Na Mile

तू मिले या न मिले (Tu Mile Ya Na Mile) तुझसे मोहब्बत करता रहूँगा,तू मिले या न मिले। तुझपे ही मरता रहूँगा तू मिले या न मिले।

Tujhse mohabbat karta rahunga,tu mile ya na mile.
Tujhpe hi marta rahunga tu mile ya na mile.
चाहे तू कभी न रुके तनहा खड़ा मुझे देखकर, उन रास्तों पर रुकता रहूँगा,तू रुके या न रुके, तुझसे मोहब्बत करता रहूँगा,तू मिले या न मिले। तुझपे ही मरता रहूँगा तू मिले या न मिले।

Chahe tu kabhi na ruke tanha khada mujhe dekhkar,
Unn raston par rukta rahunga,tu ruke ya na ruke,
Tujhse mohabbat karta rahunga,tu mile ya na mile.
Tujhpe hi marta rahunga tu mile ya na mile.
चाहे तू कभी न जगे मेरी  याद में कभी रात भर, तुझे याद कर जगता रहूँगा,तू जगे या न जगे। तुझसे मोहब्बत करता रहूँगा,तू मिले या न मिले। तुझपे ही मरता रहूँगा तू मिले या न मिले।

Chahe tu kabhi na jage meri yaad mein kabhi raat bhar,
Tujhe yaad kar jagta rahunga,tu jage ya na jage.


Tujhse mohabbat karta rahunga,tu mile ya na mile. Tujhpe hi marta rahunga tu mile ya na mile.
फरमान करदे आम चाहे मिटाने का मुझे,पर  तेरी हर अ…