Moko Kahan Dhunde Re Bande(Where Do You Search Me)

मोको कहाँ ढूंढे रे बन्दे?(Where Do You Search Me)- Kabir

image from:birthwithoutfearblog.com

मोको कहाँ ढूंढे रे बन्दे                                                                                               
मै तो तेरे पास  में 

Where do you search me?
I am with you


ना तीरथ में ना मूरत में 
ना एकांत निवास में
ना मंदिर में ना मस्जिद में 
ना काबे कैलास में 
मै तो तेरे पास में बन्दे 
मै तो तेरे पास में 

Not in pilgrimage,nor in icons
Neither in solitude resides
Not in temples,nor in mosques
Neither in Kaba nor in Kailas
I am with you o man
I am with you


ना में जप में ना में तप में 
ना में बरत उपास में 
ना में क्रिया करम में रहता 
नहिं जोग संन्यास में 
ना ब्रह्माण्ड आकाश में 
ना में प्रकृति प्रवार गुफा में 
नहिं स्वांसो की स्वांस में 

Not in prayers,nor in meditation
Neither in fasting or prohibition
Not in vedic procedure
Nor in yogic postures
Not even in sky or universe
Neither in womb of nature
Not in the breath of the breaths


खोजि होए तुरत मिल जाऊं 
इक पल की तालास में 
कहत कबीर सुनो भई साधो 
मै तो हूँ विश्वास में . 
 If you are a true seeker
In a moment than you discover
Says Kabir,listen with care
Where your faith is,I am there.


Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

Singhasan Khali Karo Ki Janata Aati Hai

The Seven Stages Of Love

Ye Hai Mera Hindustan Mere Sapno Ka Jahaan