Mohabbat Mein Itna Hi Haasil Kiya Hai.

मोहब्बत में इतना ही हासिल किया है।(Mohabbat mein itna hi haasil kiya hai.)

मोहब्बत में इतना ही हासिल किया है,
की खुद को मिटाकर भी हस्ते हैं हम।

Mohabbat mein itna hi haasil kiya hai,
Ki khud ko mitakar bhi haste hain hum.

बेरुखी से हैं उनकी वाकिफ निगाहें,
एक नज़र को पर उनकी तरसते हैं हम।

Berukhi se hain unki waqif nigahein,
Ek nazar ko par unki taraste hain hum.

गुज़रते हैं वो ज़ालिम नकाब हटाकर ही,
उन रास्तों पर जहाँ आहें भरते हैं हम।

Guzarte hain wo zalim naqab hatakar hi,
Un raaston par jahan aahein bharte hain hum.

फरियादें हमारी सुनेंगे भी कैसे,
उनकी रहमत में कहाँ बसते हैं हम।

Fariyaadein hamari sunenge bhi kaise,
Unki rahmat mein kahan baste hain hum.

जिन्हें न मिले हैं मुसाफिर सफ़र को,
वो सुनसान बंजर से रस्ते हैं हम।

Jinhe na mile hain musafir safar ko,
Woh sunsaan banjar se raste hain hum.

न आंसू ही झलके मुसीबत-ए-दिल पर,
वो सकी रुख़ दिलदार फ़रिश्ते हैं हम।

Na aansu hi jhalke musibat-e-dil par,
Woh saki rukh dildaar farishtein hain hum.

तोड़ के जिसको दुःख भी हुआ न 'सिफर',
फ़िज़ूल वही चीज़ सस्ती हैं हम।

Tod ke jisko dukh bhi hu na 'Cifar',
Fizool wahi cheez sasti hain hum.

Waqif : Aware
Aahein: Sigh
Saki Rukh : Having kind face
Fizool : Useless

Comments

Popular posts from this blog

Singhasan Khali Karo Ki Janata Aati Hai

Ye Hai Mera Hindustan Mere Sapno Ka Jahaan

The Seven Stages Of Love