Ye Marz Na Nazar Aata Hai

ये मर्ज़ न नज़र आता है।

Ye Marz Na Nazar Aata Hai. 



तुम नहीं होते तो ग़म भड़ जाता है,
ये मर्ज़ ऐसा है जो न नज़र आता है। 
Tum nahin hote to gham bhad jata hai,
Yeh marz aisa hai jo na nazar aata hai.

उन पुरानी राहों पर अब मैं भटक जाता हूँ ,
कोई रास्ता ही अलग न नज़र आता है। 
Un purani rahon par ab mein bhatak jaata hun,
Koi rasta hi alag na nazar aata hai.

सर्द रातों में हवाएं,हूँ कंबल गर्मी में लिए,
मौसमों का फ़र्क़ न समझ आता है। 
Sard raton mein hawayein,hun kambal garmi mein liye,
mausamon ka farq na samajh aata hai.

ढूंढ़ता हूँ गयी कहाँ किस्मत से ख़ुशी,
तकदीर के ये वर्क़ फटा नज़र आता है। 
Dhoondta hun gayi kahan kismat se khushi,
Takdeer ka ye waraq fata nazar aata hai.

ऐ सिफ़र ! भूल जा अब न आएंगे वो कभी,
इन दुआओं का असर क्यूँ न नज़र आता है। 
Ae Cifar! Bhool ja ab na aayenge wo kabhi,
In duaon ka asar kyun na nazar aata hai.

Marz(मर्ज़ ) = Disease
Waraq(वर्क़) = Page

Comments

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (1-2-2014) "मधुमास" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1510 पर होगी.
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है.
    सादर...!

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये मेरे लिए सम्मान कि बात होगी,मेरी रचना को पसंद करने का धन्यवाद

      Delete
  2. बहुत ख़ूबसूरत.......... उम्दा

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

Singhasan Khali Karo Ki Janata Aati Hai

Ye Hai Mera Hindustan Mere Sapno Ka Jahaan

The Seven Stages Of Love