Aaj Ki Barish(Today's Rain)

आज की बारिश(Today's Rain) 

image sourceguardian.co.uk

आज की बारिश थी या की उनका प्यार था,
                   जो बरसता ही गया मेरी चाहत की तरह,
यूँ तो लबों से न कभी उसने किया इकरार था,
                  उनकी आँखों को मगर समझा में होंटों की तरह।

Today's rain was or was her love,
                   Which showers like my love
Although She never  ever confess from her lips,
                  But I understood her eyes like her lips

पहले भी आयी घटा थीं इस कदर,
                  उनकी गलियों में जब खड़ा तनहा सा था,
जो मेरी तकलीफ का हुआ था असर,
                  मुझपर इतना करम कभी  पहले न था।

There are such clouds in the sky before,
                  When I was standing alone in her street,
But that day she came to knew about my pain,
                  Which never happen before.


आज वोह उनकी नज़रें थी मुझपर जो पड़ गई,
                 तो यूँ लगा बरसे हैं बादल आज बस मेरे लिए,
आब की बूँदें जब चेहरा मेरा छूने लगीं,
                आप मुस्काने लगे लगता है बस मेरे लिए।

How she looked at me today;
                 Make me felt that this rain of today is just for me,
When these rain drops touched my face
                It felt as if you were smiling only for me.

ऐसा न हो तेरी  वफ़ा बस मेरा ख्याल हो,
                तू मिले न फिर मुझे आज की बारिश के बाद,
ये हसी तेरी छुपाए शायद कोई सवाल हो,
               न नज़र आये चली जाए न इस बारिश के साथ।
  Lest thy faithfulness is just my idea,
                You will not see me again after today's rain,
This smile of yours might be my imagination
                And may disappear like today’s rain.
             
तुझसे बिछड़ जाऊँगा तो न चैन आएगा मुझे,
                अब तेरी यादों में जगू फिर जगाएगी जुदाई तेरी,
डर है लगता सोचता हूँ जब खो दूंगा तुझे,
                तेरे बिन गर होगी तो मौत सी होगी ज़िन्दगी मेरी।

I’ll never got rest if we got separated,
                Now your memories make me awake and then your separation will never let me sleep,
I'm afraid to think that we will get apart,
                Oh my life without you would be like death.

ख़त्म करदे आज से ये तड़प ये बेचैनी मेरी,
                दे इजाज़त के मांग लूं में आप को ही आप से,
न ज़माने की फिकर हो,हर तरफ से हो बरी,
               छोड़ सब मिलादे बस मुझको आज अपने आप से।

Remove all these suffering of mine today,
                And give me permission to take you from you
Don’t care about the world today
               Leave everything and unite with me.


Comments

Popular posts from this blog

Singhasan Khali Karo Ki Janata Aati Hai

The Seven Stages Of Love

Ye Hai Mera Hindustan Mere Sapno Ka Jahaan