Taqdeer

तक़दीर (Taqdeer)


किसी के छींकने से पहले रुमाल हाज़िर है,
कोई दिन रात भी छींके तो एक कत्तर नहीं मिलती।
Kisi ke cheenkne se pehle rumal haazir hai,
Koi din raat bhi cheenke to ek kattar nahin milti.

कोई सोए है मखमल पर,है गर जागे तो फूलों से,
कोई सोने को भी तरसे जो सोये भी तो काँटों पे।
Koi soye hai makhmal par,hai gar jaage to phulon se,
Koi sone ko bhi tarse jo soye bhi to kanto pe.

किसी को लाल जोड़ा भी है कुरता भी तो अचकन भी,
कोई नंगे बदन भी हो तो न मिले हमदर्दी ही।
Kisi ko laal joda bhi hai kurta bhi to achkan bhi,
Koi nange badan bhi ho to na mile hai humdardi.

कोई मुस्कुराए तो संग मुस्काती है दुनिया,
कोई चुप भी रहे तो हसकर चली जाती है दुनिया।
Koi muskuraye to sang muskati hai duniya,
Koi chup bhi rahe to haskar chali jati hai duniya.

कोई क़त्ल भी कर दे तो सलाम मिलता है,
किसी की ठोकर पे भी फंदा सरे आम मिलता है।
Koi katl bhi kar de to salaam milta hai,
Kisi ki thokar pe bhi fanda sare aam milta hai.

Taqdeer  - Fate           Kattar - small piece of cloth      Fanda - Noose
Cheenk  - Sneeze         Makhmal - verlvet

Comments

Popular posts from this blog

Singhasan Khali Karo Ki Janata Aati Hai

The Seven Stages Of Love

Ye Hai Mera Hindustan Mere Sapno Ka Jahaan